मुश्किल में पंकजा मुंडेः 6300 करोड़ के ठेके को सर्वोच्च अदालत ने किया रद्द

मुंबई/ सुरेश शुक्ला
राज्य की महिला व बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे के विभाग द्वारा जारी 6,300 करोड़ रुपये के ठेके रद्द करने का आदेश दिया गया है। यह ठेका बच्चों और महिलाओं को आहार मुहैया कराने लिए 2016 में मंगाया गया था। कोर्ट ने अगला टेंडर मंगाने तक पर्याप्त व्यवस्था मुहैया कराने का आदेश राज्य सरकार को दिया है। फडणवीस सरकार में मंत्री पंकजा मुंडे लगातार भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरती रही हैं। वह 106 करोड़ रुपये के मोबाइल फोन खरीदी के मामले में अभी उबरी भी नहीं थीं कि कोर्ट ने उन्हें जोर का झटका दिया है। 2016 में पंकजा के चचेरे भाई धनंजय मुंडे ने उन पर चिक्की घोटाले के साथ-साथ आंगनवाड़ी विभाग में तमाम खरीदारी में घोटाले का आरोप लगाया था। राज्य के दोनों सदनों में विपक्ष ने यह मामला उठाया था। तब मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पंकजा का बचाव किया था लेकिन अब उन्हीं आरोपों को सुप्रीम कोर्ट ने सही ठहराया है। ठेके रद करने के आदेश के बाद फडणवीस और पंकजा मुंडे की परेशानियां बढ़ने वाली हैं। फडणवीस मंत्रिमंडल से हरी झंडी मिलने के बाद 8 मार्च, 2016 को खरीदी टेंडर जारी किया गया था। यह टेंडर महिलाओं द्वारा संचालित स्वयं सहायता समूह को ही दिया जाना था, लेकिन सरकार ने यह ठेका बड़े उद्योगपतियों को दे दिया गया।
दायर की गई थी याचिका
एक महिला स्व यंसेवी सहायता समूह ने याचिका दायर कर ठेके में शामिल कुछ शर्तों को उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने वाला बताया था। याचिकाकर्ता ने ठेके में वित्तीय कारोबार की शर्तों को कुछ कंपनियों को फायदे देने वाला बताया। सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार को नए सिरे से टेंडर जारी करने के आदेश दिए हैं। जब तक नया टेंडर जारी नहीं हो जाता, बच्चों और महिलाओं के लिए वैकल्पिक तरीके से पोषण संबंधी आहार मुहैया कराया जाए।

106 करोड़ के मोबाइल घोटाले में भी शामिल होने का आरोप

महाराष्ट्र की महिला व बाल कल्याण विकास मंत्री पंकजा मुंडे करड़ों के मोबाइल घोटाले में भी फंसती नजर आ रही हैं। उनके चचेरे भाई व राकांपा नेता धनंजय मुंडे ने 106 करोड़ रुपये की मोबाइल खरीदी घोटाले का आरोप लगाया है। विधान परिषद में विरोधी पक्ष के नेता धनंजय मुंडे के अनुसार, पैनासोनिक एलुगा-17 मोबाइल की कीमत ऑनलाइन 6,000-6,400 रुपये के बीच है। खुले बाजार में यह 6,499 रुपये में मिलता है, जबकि पंकजा मुंडे ने इसे 8,777 रुपये की दर से खरीदा है। धनंजय मुंडे का आरोप है कि पैनासोनिक एलुगा को अप्रैल 2018 में लॉन्च किया गया था, लेकिन अब यह बंद हो गया है। यह बाजार में नहीं है। धनंजय ने मैसर्स सिस्टेक आईटी सॉल्यूशन पर सरकार को न बिकने वाले स्टॉक बेचने का आरोप लगाया है। पंकजा ने 30 जिलों में 85,452 आंगनवाड़ी केंद्रों के लिए 1.02 लाख मोबाइल खरीदे थे। 28 फरवरी 2019 को जारी सरकार के प्रस्ताव में कहा गया, ‘स्मार्टफोन को सूचना कंप्यूटर प्रौद्योगिकी के लिए खरीदा गया था। महिला और बाल विकास विभाग ने 5,100 अतिरिक्त हैंडसेट बैंगलुरु स्थित मैसर्स सिस्टेक आईटी सॉल्यूशन, प्राइवेट लिमिटेड से खरीदे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *