भारतीय फिल्म सौ साल के सिनेमाई इतिहास में क्यों नहीं जीत पाई कोई ऑस्कर अवॉर्ड?

भारत साल भर में लगभग 1500 फिल्में बनाता है। पूरी दुनिया में इसकी केवल आधी फिल्में ही बन पाती है लेकिन इसके बावजूद अपने 100 साल के सिनेमाई इतिहास में हमारा देश एक भी ऑस्कर नहीं जीत पाया है। ’स्लमडॉग मिलयेनेर’, ’लाइफ ऑफ पाई’ और ’गांधी’ जैसी फिल्में में भले ही भारतीय एंगल का खास महत्व हो लेकिन ये भी एक कड़वा सच है कि इन फिल्मों को किसी भारतीय डायरेक्टर ने नहीं बनाया था। अभी तक सिर्फ 5 भारतीयों ने ऑस्कर जीते हैं। इनमें भानु अथैया, रसेल पुकुट्टी, ए आर रहमान, गुलजार शामिल हैं। इसके अलावा सत्यजीत रे को 1991 में ऑस्कर सेरेमनी में लाइफटाइम अचीवमेंट का अवॉर्ड मिला था।
किसी फिल्म का ऑस्कर अवॉर्ड जीतना किसी भी छोटे देश के लिए ग्लोबल स्तर पर एक्जपोज़र पाने का बेहतरीन जरिया होता है। कई देशों में ओलंपिक और नोबेल पुरस्कारों की तरह ही ऑस्कर की जीत का जश्‍न मनाया जाता है। सोनी पिक्चर्स के को प्रेसीडेंट टॉम बर्नार्ड कह चुके हैं कि एक ऑस्कर नॉमिनेशन कई मायनों में किसी देश के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है और कई देश तो इस जीत को विश्‍व कप की तरह सेलेब्रेट करते हैं। ऐसे में ये जानना जरुरी हो जाता है कि 100 सालों के सिनेमाई इतिहास में भारत की तरफ से अब तक एक अदद फिल्म ऐसी क्यों नहीं बन पाई है जो देश को ऑस्कर अवॉर्ड दिला सके।
दरअसल कुछ फिल्मों को छोड़ दिया जाए तो भारत की तरफ से ऑस्कर में गई ज्यादातर फिल्में औसत दर्जे की ही रही हैं। साल 1957 में आई महान फिल्म मदर इंडिया ऑस्कर जीतने के सबसे करीब पहुंची थी। ये फिल्म महज एक वोट से ऑस्कर जीतने से चूक गई थी। इसके बाद जो फिल्म ऑस्कर्स में फाइनल पांच में पहुंच पाई थी उनमें 1988 में आई मीरा नायर की फिल्म सलाम बॉम्बे और आमिर खान की 2001 में आई फिल्म लगान थी। 1957 से 2012 तक भारत ने ऑस्कर में 45 फिल्में भेजी हैं जिनमें से 30 फिल्में बॉलीवुड से थी लेकिन इनमें केवल 8 फिल्में ऐसी थी जिन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला है। मदर इंडिया के तीस सालों बाद तक भारत की किसी भी फिल्म का अंतिम पांच में भी न पहुंच पाना साफ करता है कि हम अपने देश की बेहतरीन फिल्में ऑस्कर नहीं भेज रहे हैं। साल 1998 में फिल्म जीन्स को ऑस्कर की आधिकारिक एंट्री के लिए भेजा गया था जबकि श्याम बेनेगल की फिल्म समर एक बेहतरीन फिल्म थी और इसे नेशनल अवॉर्ड भी मिला था। लेकिन इसके बावजूद एक औसत फिल्म जीन्स को ऑस्कर के लिए भेजा गया क्योंकि उस फिल्म के साथ ऐश्‍वर्या राय ने अपना डेब्यू किया था। ऐश्‍वर्या मिस वर्ल्ड का खिताब जीत चुकी थी और उनकी ग्लोबल पहचान के चलते उनकी फिल्म को ऑस्कर में पुश मिला। इसी तरह साल 2012 में फिल्म बर्फी को ऑस्कर के लिए भेजा गया था। हालांकि फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन किया था और इसे रणबीर कपूर की बेहतरीन फिल्मों में भी शुमार किया जाता है लेकिन फिल्म में चार्ली चैपलिन मार्का कॉमेडी सीन्स कॉपी किए गए थे जिसके चलते इस फिल्म के ऑस्कर में चांसेस काफी कमजोर हो गए। उसी साल आई विद्या बालन की शानदार थ्रिलर ’कहानी’ और इरफान खान की फिल्म ’पान सिंह तोमर’ के बेहतरीन चांसेस थे लेकिन एक बार फिर भारत ने ये मौका गंवा दिया था। कई बार ऐसा भी होता है कि भारत की तरफ से बेहतरीन फिल्म को ऑस्कर के लिए भेजा जाता है लेकिन इंटरनेशनल मार्केट में इस फिल्म की पब्लिसिटी ठीक ढंग से नहीं हो पाती है जिसकी वजह से ये फिल्में बढ़िया एक्सपोज़र के अभाव में चूक जाती हैं। बॉलीवुड में थोड़े बहुत ट्विस्ट्स के साथ रोमांटिक कॉमेडी जॉनर पर ही फोकस रहा है और इस जॉनर में ऑस्कर स्तर की फिल्में बनाना काफी मुश्किल होता है। इसके अलावा बॉलीवु़ड का बिजनेस मॉडल ऐसा है जहां फिल्ममेकिंग के कई स्तर पर समझौता होता है और फिल्म केवल स्थानीय बिजनेस को ध्यान में रखकर ही बनाई जाती है। कई बार ये फिल्में ऑस्कर के स्तर को छू भी नहीं पाती है। यही कारण है कि बॉलीवुड का एक बड़ा हिस्सा केवल औसत फिल्मों पर ही फोकस रहता है। हालांकि बीते कुछ समय में कंटेंट बेस्ड सिनेमा का बोलबाला भारत में बढ़ा है और उम्मीद है कि जल्द ही भारत का ऑस्कर सूखा समाप्त हो सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *