हीरा व्यापारी की हत्या में मंत्री का पूर्व पीए, टीवी अभिनेत्री और मॉडल गिरफ्तार

व्यापारी को हनी ट्रैप में फंसा कर वसूलना चाहते थे करोड़ों रुपए

मुंबई/ पूनम पांडेय
घाटकोपर के हीरा व्यापारी राजेश्‍वर उदानी की हत्या के मामले में नया मोड़ आ गया है। पंतनगर पुलिस ने इस केस में 5 लोगों को हिरासत में लिया है। इनमें टीवी अभिनेत्री देवोलीना भट्टाचार्जी, गृह निर्माण राज्य मंत्री प्रकाश मेहता के पूर्व पीए सचिन पवार और एक मॉडल शामिल हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, सभी संदिग्धों के नाम का खुलासा उदानी के मोबाइल सीडीआर की जांच के बाद हुआ। हत्या में सचिन पवार का नाम आने के बाद मंत्री प्रकाश मेहता ने मीडिया को जानकारी दी कि मेरा सचिन पवार से अब कोई लेना-देना नहीं है।
राजेश्‍वर उदानी घाटकोपर पश्‍चिम के कामा लेन स्थित महालक्ष्मी अपार्टमेंट में रहते थे।
राजेश्‍वर 28 नवंबर को अपने ड्राइवर के साथ कहीं जा रहे थे, अचानक उन्होंने विक्रोली हाइवे पर गाड़ी रुकवाई और करीब 50 मीटर दूरी पर खड़ी एक दूसरी गाड़ी में जाकर बैठ गए। उसके बाद ड्राइवर को गाड़ी घर पर छोड़ने को कहा। ड्राइवर द्वारा गाड़ी घर पर छोड़े जाने के बाद जब 24 घंटे तक राजेश्‍वर घर नहीं आए, तो पंत नगर पुलिस स्टेशन में परिवार वालो द्वारा मिसिंग की शिकायत दर्ज कराई गई। पुलिस को जांच में उनका आखिरी लोकेशन मुलुंड-एरोली इलाके का मिला। लापता होने के बाद फिरौती का कोई कॉल नहीं आया था। इसलिए पुलिस व्यापारी के मोबाइल डेटा से केस की कड़ियां सुलझाने की कोशिश कर रही है। जिस इलाके से वह गायब हुए, वहां से आगे के सीसीटीवी भी देखे जा रहे हैं, ताकि विक्रोली हाइवे पर जिस दूसरी गाड़ी में वह बैठे, उस गाड़ी के नंबर की डिटेल और उसमें बैठे लोगों की शिनाख्त की जा सके।जांच के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि 5 दिसंबर को किसी शख्स का शव पनवेल के मेरे गांव इलाके से मिला है जिसकी अबतक शिनाख्त नही हो पाई है। सूचना मिलने के बाद जब 7 दिसंबर को जांच अधिकारी शव की पहचान करने गए तो, शव की शिनाख्त राजेश्‍वर उदानी के रूप में हुई थी। सूत्रों के अनुसार, उदानी शौकीन मिजाज के इंसान थे और डांस बार वगैरह में जाते थे। उनके मोबाइल फोन में कुछ अभिनेत्रियों और मॉडल्स के भी नंबर मिले हैं। जिससे ये अंदाजा लगाया जा रहा कि पूरा मामला हनी ट्रैप के जरिए ब्लैकमेलिंग का है। सूत्रों का कहना है कि चूंकि उदानी हीरा व्यापारी थे, इसलिए आरोपियों को लगा कि उनसे मोटी रकम वसूली जा सकती है। इसीलिए उन्हें हनी ट्रैप में लेने की कोशिश की गई। इरादा उनसे 10 करोड़ रुपये वसूलने का था। पंतनगर पुलिस ने पहले उदानी के लापता होने की शिकायत दर्ज की थी। बाद में उनके अपहरण और हत्या की धाराएं जोड़ी गईं। पुलिस ने इस मामले की जांच के लिए एक स्पेशल टीम बनाई। क्राइम ब्रांच ने भी समानांतर जांच शुरू की। उसी प्रक्रिया में कई बड़े नाम आए। पिछले दो दिनों में दो दर्जन से ज्यादा लोगों से पूछताछ की गई। इनमें एक पुलिसकर्मी भी बताया जा रहा है, जो मंत्री के पूर्व पीए सचिन पवार का करीबी है। सूत्रों का कहना है कि अभिनेत्री देवोलीना भट्टाचार्जी को गुवाहाटी से पकड़कर मुंबई लाया गया है। पुलिस की माने तो उस गाड़ी का नम्बर प्लेट बदल दिया गया था, जिस गाड़ी में आखरी बार उदानी बैठे थे, पुलिस ने गाड़ी का नंबर प्लेट बदलने वाले को भी हिरासत में लिया है साथ ही उस गाड़ी को भी जब्त कर लिया है, जिसमें बैठकर उदानी गए थे। अभी यह साफ नहीं हुआ है कि क्या तब तक उदानी की हत्या की जा चुकी थी या बाद में की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *